Latest

6/recent/ticker-posts

पंचायती में लिया गया निर्णय का 10 लाख जुर्माना राशि नही मिलने पर ग्रामीण आक्रोशित

➣ जुर्माना के 10 लाख में शेष 9 लाख रुपया का मांग 

ग्रामीण के साथ वार्तालाप करते विधायक लोबिन हेम्ब्रम

राजमहल-किसी बड़ी घटना का आशंका को लेकर तीनपहाड़ थाना परिसर गुरुवार को  पुलिस छावनी में तब्दील हो गई।देखते ही देखते पुलिस के वाहनों की लंबी कतार लग गयी।पुलिस की इतनी बड़ी काफिला को देखकर हर किसी का कान खड़ा हो गया।ये किसी अनहोनी के आशंका से कम नही था।हर किसी के चेहरे पर जैसे एक जिज्ञासा दिख रहा था।कंही कोई बड़ी अनहोनी हो गयी या होने वाली है ,जैसे सवाल लोगो के छठी इंद्री में ठोकर मारने लगी।

मालूम हो की वाहनों का काफिला देर शाम तक थाना परिसर में खड़ी रही।ऐसा लग रहा था कि पुलिस के अधिकारी किसी अनहोनी को रोकने के लिए कैंप कर रही है।पुलिस के माथे में भी चिंता की लकीर दिखी।आलम ये था कि पूरे क्षेत्र में एक सनसनी फैल गयी।जानकारी के अनुसार तीनपहाड़ थाना क्षेत्र के बिंदिन गांव में आदिवासी समाज के ग्रामीणों के इकट्ठा होने की सूचना पर पुलिस की कान खड़ी हो गयी थी।अनहोनी के आशंका को रोकने के मकसद से पुलिस तैनात थी।

हांलाकि तीनपहाड़ थाना में  कैंप के बारे में की गयी सवाल पर से दिनभर पुलिस पदाधिकारी बचते रहे।इसकी सूचना मिलते ही बोरियो विधायक लोबिन हेम्ब्रम बिंदिन गांव पंहूचकर ग्रामीणों से मामले की जानकारी ली।विधायक श्री हेम्ब्रम ग्रामीणों के साथ बैठक कर शांति व्यवस्था बनाये रखने का अपील की।

➣ ग्रामीणों ने पुलिस पर लगाया आरोप की पंचायती हो गई तो प्राथमिकी क्यो हुई दर्ज

तीनपहाड़ थाना में पुलिस वाहनों का जमावड़ा

चौकन्ना दिखी पुलिस :- जानकारों का माने तो बिंदिन गांव में आसपास के गांवो से  आदिवासी समाज के लोग गोलबंद हो रहे थे। आशंका जताया जा था कि विंदीन गांव के ग्रामीण सुतियारपाड़ा गांव  में आरोपियों के घर बिटलाह कर सकता है या तो तीनपहाड़ थाना का घेराव कर सकता है।इसकी जानकारी मिलते ही तीनपहाड़ थाना पुलिस सकते में आ गयी।थाना प्रभारी परशुराम पासवान ने इसकी जानकारी वरीय पुलिस पदाधिकारियो को दी।देखते ही देखते राजमहल के एसडीपीओ अरविन्द कुमार सिंह के नेतृत्व में कई थाने के पुलिस तीनपहाड़ थाना पँहुच गयी।

तीनपहाड़ थाना में तालझारी बीडीओ भी कैंप कर रहे थे।पुलिस के अधिकारी चौकन्ना दिखे।विंदीन गांव में आदिवासी समाज का जमावड़ा का पल पल की खबर ले रहे थे।आंखिर देर शाम तक पुलिस प्रशासन की रणनीति कामयाब रही।उग्र ग्रामीणों को समझाने में बोरियो विधायक व स्थानीय बुद्धिजीवी सूझ बूझ का परिचय देकर माहौल को शांत करने में कामयाब रहे।

क्या है मामला

मोहनपुर-लालबन पीडब्ल्यूडी सड़क पर सुतियार पाड़ा, बिंदिन व आस पास के क्षेत्रों के दर्जनों  युवक पुलिस बहाली में जाने के लिए तैयारी करते है। जानकारी के अनुसार बीते 11 अगस्त को सुबह लगभग 6:30 बजे सुतियारपाड़ा निवासी छोटू घोष , देवेंद्र घोष  मोहनपुर मुख्य सड़क पर घूमने गया था ।

इस दौरान बिंदिन गांव के वासेत हेंब्रम  पिता शमियुल हेंब्रम, सामू टूडू पिता  सिक्स टुडू, सिरजल मुर्मु पिता जयराम मुर्मू, सोम टुडू   पिता स्वर्गीय काटु टुडू, सोनू मुर्मू पिता संग्राम मुर्मू , सुनील हांसदा पिता दसपत हांसदा,प्रयास टुडू पिता मंगला टुडू ,  डेविड सोरेन पिता शिब सोरेन ,महेंद्र मुर्मू पिता  लेदेन मुर्मू मनसी हांसदा पिता लखीराम हांसदा, चांद मरांडी स्वर्गीय समाई मरांडी, ताला हांसदा पिता गंगाराम हांसदा सभी  दौर का अभ्यास कर कसरत कर रहे थे ।कसरत करने वाले स्थान पर छोटू घोष व उनके दोस्त सौच  कर रहे थे।

इसे लेकर बासेत हेम्ब्रम व उनके दोस्तों द्वारा जगह को गंदा करने को लेकर मना किया गया।इसे लेकर दोनों पक्षो के बीच मारपीट हो गयी।आरोप है कि छोटू घोष तथा उनका दोस्त देवेंद्र घोष ने 22 वर्षीय बासेत हेंब्रम को मारकर 5 दांत तोड़ दिया। जिससे वह बुरी तरह से जख्मी हो गया ।इसकी सूचना मिलते ही बिंदिन व आसपास के सैंकड़ो  लोग घटना स्थल में पहुच कर सुतियार पाड़ा गांव के रामविलास यादव, मेघनाथ यादव और गणेश यादव को पकड़ कर अपने गांव बिंदीन ले गया।

जंहा सभी को में  बंधक बना लिया और एक बृक्ष में तीनो को बांध दिया। घटना की जानकारी मिलते ही तीनपहाड़ थाना प्रभारी परशुराम पासवान घटना स्थल पर पहुच घायल युवक को इलाज हेतु राजमहल भेजा ।परन्तु चिकित्सक ने बेहतर इलाज हेतु  साहिबगंज भेजा। 


पुलिस के उपस्थिति में हुई थी पंचायत :- जानकारी के अनुसार बंधको को मुक्त कराने के लिए थाना प्रभारी श्री पासवान ने गांव वालों से बात चीत किया। जिसमें गांवो वालो ने आदिवासी रीति रिवाज के अनुसार जुर्माना लगाने की मांग रखी।बताया जाता है कि ग्रामीणों ने जुर्माना के रूप में  60 लाख रुपये की बात कही। बात बिगड़ते देख कर थाना प्रभारी श्री पासवान ने अपने वरीय अधिकारियों को सूचित किया।विंदीन गांव पँहुचे पुलिस पदाधिकारी व ग्रामीणों के समक्ष पीड़ित को  10 लाख रुपये  दितीय पक्ष की तरफ से दिए जाने का करार हुआ।

जिसमे  जिसमें सभी ने हामी भी भरी थी। विचार उपरांत  1लाख रुपया सुतियारपाड़ा यानी द्वितीय पक्ष के द्वारा बिंदीन ग्राम के ग्रामीणों को दी गई। पंचायत में एक बंध पत्र भी बना था।जिसमे शेष 9लाख रुपया 20 अगस्त को देने की बात विचार में तय की गई थी।बताया जाता है उक्त बंध पत्र में पंच के सदस्यों के अलावे तीनपहाड़ थाना प्रभारी परशुराम पासवान का हस्ताक्षर भी है।
-------–---

मेरा नही है हस्ताक्षर-

इस बाबत पुछके जाने पर थाना प्रभारी परशुराम पासवान ने कहा कि जक्त बंध पत्र में मेरा कोई जाली हस्ताक्षर किया है।मेरे द्वारा कोई हस्ताक्षर नही किया गया है।जबकि ग्रामीणों ने बताया कि 10 लाख जुर्माना का फैसला पंचायत में थाना प्रभारी व अन्य पुलिस पदाधिकारियो के समक्ष ही हुआ है।ग्रामीणों ने बंध पत्र का प्रति वाइरल किया गया है।जिसमे थाना प्रभारी के कॉलम में एक हस्ताक्षर भी है।

➣ किसी अनहोनी की आशंका पर पुलिस छावनी में तीनपहाड़ थाना तब्दील


दोनों पक्षो से  मामला दर्ज :- इधर पुलिस ने घटना को लेकर बीते 12 अगस्त को  दोनों पक्षों की आवेदन के आधार पर प्राथमिकी दर्ज हुुुई। जिसमे बिंदीन ग्राम के घायल बासित हेम्ब्रम के द्वारा पांच नामजद अभियुक्त बनाया गयाा।पुलिस ने बीते 18 अगस्त को पांचों नामजद को ग्रिफ्तार कर जेल भेज दिया। जबकि गुरुवार को बिंदीन ग्राम में ग्रामीणों व बोरियो विधायक लोबिन हेम्ब्रम के वार्ता में ग्रामीणों ने बताया कि बासीत के तरफ से कोई केस नही किया गया है। 

तो पुलिस केस कर  उन पांच लोगों को क्यों ग्रिरफ्तार किया? साथ ही  ग्रामीणों ने यह भी बताया कि जिस दिन पदाधिकारी व ग्रामीणों के बीच ग्राम में विचार हो रही थी, उस दिन प्रसाशन ने आश्वासन भी दिया था कि उनलोगों को मांग की गई शेष 9 लाख रकम  आगामी 20 अगस्त को सुतियारपाड़ा के नामजद लोगो से मिल जाएगी। पंच द्वारा बनाई गई बांड पेपर में तीनपहाड़ थाना प्रभारी परशुराम पासवान की हस्ताक्षर भी है। 

पर प्रसाशन ने तो चालाकी से उन पांच लोगों को ग्रिरफ्तार कर जेल भेज दिया। जो पुलिस कि एक सोची समझी चाल है।मौके पर बरनाबस हांसद,सुनील हांसदा,रामबाई मुर्मू, मुंसी हांसदा,रामबाई सोरेन, जोसेफ मरांडी, राम बाई मुर्मू के सहित सैकड़ों से अधिक बिंदीन ग्रामीण के अलावे अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।


सादा कागज में पुलिस कराया था हस्ताक्षर :- ग्रामीणों ने पुलिस पर आरोपी लगाते हुए कहा कि बैठक में   बीते 11 अगस्त को पंचायत होने के दौरान थाना प्रभारी परशुराम पासवान ने घायल बासित हेम्ब्रम से एक सादा काजग में अस्पताल में दाखिल होने के नाम पर हस्ताक्षर भी करा लिया था। शायद उसी सादा कागज में थाना प्रभारी द्वारा केस कर पांच लोगों की ग्रिरफ्तार की खेल रची गई हो। ग्रामीणों का साफ शब्दों में कहना है कि हमलोग कुछ नही जानते हमलोगों को जो पदाधिकारी के समक्ष जो राशि देने की बात की गई थी, जिसमे 1लाख मिली है। शेष राशि 9लाख रुपया चाहिए। 

➣ विधायक लोबिन हेम्ब्रम  पँहुचा विंदीन गांव

क्या कहते है विधायक

बोरियो विधायक लोबिन हेंब्रम ने कहा की पंचायती में 10 लाख जुर्माना किया गया तँहा ये ग्रामीणों ने बताया है। पंचायती में 1 लाख रुपया दे दिया गया था और शेष 9 लाख राशि देने की बात पर सहमति जताई  गयी थी। बताया कि ग्रामीणों के अनुसार पंचायती के निर्णय पर सभी बने हुए । पीड़ित द्वारा कोई केस भी नहीं किया गया है। जो भी घटना हुई थी ,वो गलत है ।फिलहाल घायल को इलाज सही रूप से होनी चाहिए और जनप्रतिनिधि के नाते प्रयास की जा रही है कि मामला आगे न बढ़े और शांति की माहौल बने रहे।

Post a Comment

0 Comments